...

BBA Kya Hai or BBA Karke Se Paise Kamaane Ke Naye Raaste

BBA se money earning

BBA क्या है? और BBA कोर्स करके पैसे कैसे कमाए?

BBA कोर्स क्या होता है! और इसको करने से किस चीज का ज्ञान मिलता है? BBA कोर्स के बारे में पूरी जानकारी आज आपको इस article में मिलेगी। जिसको पढ़कर आपको BBA कोर्स की महत्त्वता का ज्ञान होगा।

BBA जिसकी full form “Bachelor of Business Administration” है। यह एक undergraduate degree program है। जिसमे Business Management, Administration और ऐसे ही संबंधित विषयों को पढ़ाया जाता है।

असल में BBA एक undergraduate degree program है। BBA आपको बारहवीं पास करने के बाद करना होता है। यानि BBA की undergraduate degree program को आप बारहवीं पास करने के बाद ही कर सकते है। जिसमे business से जुड़ी हर analysis का ज्ञान आपको दिया जाता है। जिसमे आपको ये बताया जाता है! की business को करने के लिए आपको कौन-कौन से तथ्यों को ध्यान में रखना जरूरी है। जिससे आपको सही तरीके से business करने की ज्ञान प्राप्ति हो सके।

अब हम यह जान लेती है! की BBA में Business Administration से जुड़े कौन-कौन से विषयों के बारे में आपको पढ़ाया और ज्ञान दिया जाता है।

BBA में Business Administration से जुड़े विषय जैसे की – Accounting, Finance, Marketing, Human Resources, Operations Management और Entrepreneurship यह सभी शामिल होते है। BBA के इन सभी विषयों को पढ़कर और उनका सही ज्ञान लेकर आप दुनिया के सभी बड़े businesses में से किसी भी business को करने में पूरी तरीके से सक्षम हो जाते है। और एक professional और knowledgeable business person बनने में सक्षम होते है।

क्योकि BBA undergraduate regularly basis degree program करके आपको business से जुड़े सभी तथ्यों पर पढ़ाया जाता है। जिसमे business करते समय आपको कौन-कौन से तथ्यों पर ध्यान देना है यह बताया जाता है।

BBA यह सभी जानकारी और ज्ञान प्राप्त कराने में सक्षम है। BBA regular basis degree program करके आपको बड़े से लेकर छोटे business को कैसे handle करना होता है और किस business में कौन-सा तथ्य जरूरी होता है। यह जानना और इसका ज्ञान लेकर career में आगे बढ़ना आपके लिए बहुत ही लाभदायक होता है।

किसी भी बड़े या छोटे business को करने के लिए अलग-अलग तथ्यों की जरूरत होते है। क्योकि हर business की category के अनुसार उसकी अपनी विशेषता और मांग होती है। इसलिए हर business category में हर तथ्या का होना जरूरी नहीं होता है। जिसकी वजहे से सभी businesses की अपनी मांग होती है।

यानि हर अलग business में business category के अनुसार उनके अपने-अपने तथ्य होते है। जिसकी वजह से हर अलग category के business को करने के लिए business में अलग-अलग factors को लेने की जरूरत होते है। हर business के लिए आप एक ही तरीके के factors को लागू नहीं कर सकते है।

इसको हम एक उद्धरण से समझते है। जिससे की BBA की importance को समझना आपके लिए आसान होगा। जैसे की दो अलग-अलग business है। एक hospital है और एक school का business है। अब इन दोनो अलग-अलग business categories को सभालने के लिए अलग-अलग तरीकों की जरूरत होगी। यानि hospital के business को सभालने के लिए Doctors और Patients के तथ्य को लेना अनिवार्य है। और school के business को सभालने के लिए Teachers और Students तथ्य को लेना अनिवार्य है। जिसमे दोनों businesses की अपनी-अपनी विशेषताएँ, गतिविधियाँ और तरीके है।

हर business category के अनुसार उसमे कौन-सी विशेषताएँ, गतिविधियाँ और तरीको को लागू करना या अपनाना जरूरी होता है। यह ज्ञान BBA undergraduate degree program के द्वारा मिलता है। जिसकी वजह से BBA करके हर छोटे से बड़े business को कैसे करना है और अलग-अलग business category में कौन-से अलग-अलग तरीके को अपनना जरूरत है। इस शिक्षा की ज्ञान प्राप्ति का बोध BBA कोर्स करने से मिलता है।

अब जानते है! कि BBA कितने साल का होता है? और BBA में किन-किन तरीको से आपको business करने के बारे में सिखाया जाता है? जो हम आपको नीचे दिए गए इस article में विस्तार से मालूम होगा।

BBA लगभग तीन से चार साल का कोर्स होता है। जिसको आप regular basis पर करके Business Administration से जुड़ी हर तरीके की जानकारी प्राप्त कर सकते है। यहां तक की अगर आप इसको irregular basis पर करना चाहते है। तो आप online classes भी कर सकते है।

आज के समय में बहुत सारे ऐसे colleges या universities है। जो आपको offline classes के साथ-साथ online classes की सुविधा दे रहे है। Online Classes के द्वारा आप BBA undergraduate degree program की पूरी शिक्षा और ज्ञान प्राप्ति कर सकते है। जिसकी मदद से आपको daily offline classes भी नहीं करनी पड़ेगी और आप  BBA Online Classes से मिलने वाले Business Administration की पढ़ाई करके ज्ञान ले सकेगे।

BBA Offline और Online Classes में आपको Business Administration से सम्बंधित सभी विषयों के बारे में पढ़ाया जाता है। जिसमे पढ़ाने के साथ-साथ आपकी practical business skills को भी focus किया जाता है। जिसके द्वारा आप Business Administration से सम्बंधित सभी विषयों के बारे में ज्ञान प्राप्ति के साथ-साथ practically भी समझ पाते है की business को करने में कौन-कौन सी विशेषताएँ और तरीकों की जरूरत होती है। जिससे आप यह समझने में सक्षम हो पाते है की वास्तविक जीवन में business को करते समय आपको कौन-कौन सी मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है। जिसमे सही तरीको का इस्तेमाल business में सही समय पर लगाना ज़रूरी होता है।

BBA के विषयों का क्या महत्त्व है?

यह तभी समझ आएगा जब हम BBA कोर्स के विषयों के महत्त्व को विस्तार से समझेंगे। और यह जानेगे की कैसे हर अलग-अलग category के business के अनुसार analysis करके उनके तथ्यों को समझना चाहिए। जिससे हर business की मुश्किलों को handle करने में BBA कोर्स के ज्ञान की सहायता ले सके।

जैसा की अपने इस article की शुरुवात में ही पढ़ा था। की BBA यानि की Bachelor of Business Administration में Accounting, Finance, Marketing, Human Resources, Operations Management और Entrepreneurship यह सभी विषय शामिल होते है। जिन विषयों की महत्त्वता के बारे में एक-एक करके BBA के हर विषय के बारे में विस्तार से नीचे दिए गए article में समझते है।

1) Principles of Management

Principles of Management जो की आपके personal और professional जीवन के साथ-साथ किसी भी business को manage करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ताकि business में principles of management के महत्त्व को समझाया जा सके। इसमे principle के नाम से ही समझ आ रहा है कि ऐसा कोई भी काम जो आप करते है जिसमे principles लागू होते है। ताकि आपको business को manage करने में आसानी हो और कोई भी aspect ना छूट जाए। जिसकी वजह से business में कोई नुकसान ना हो।

जब भी कोई business किया जाता है। तब किसी भी business को manage करने के लिए कुछ principles बनाए जाते है। क्योकि principles business के लिए एक framework प्रदान करते है। जिसकी मदद से आप effective management practices और उसके साथ key elements को भी शामिल करते है।

Key Elements जैसे की – Business की planning, organizing, leading और controlling करना। इन्ही सभी key elements की मदद से business के सभी aspects को manage करना आसान होता है। इसीलिए principle of management विषय को समझना और उसकी मदद से कैसे business को अच्छे से manage करे यह जानना जरूरी होता है। जिसमे आपको business को बनाने के लिए कौन-सी planning करना जरूरी है।

2) Financial Accounting

Financial Accounting किसी भी business को financially चलाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। फिर चाहे वो छोटा business हो या बड़ा business। क्योकि business का मतलब ही finance से शुरू होता है। जिसमें finance को बढ़ाने के लिए ही काम या business को किया जाता है। लेकिन आपको बता दे की BBA में financial accounting विषय होने का तात्पर्य मध्य और बड़े businesses को financially कैसे manage करें यह सिखाने के लिए पढ़ाया जाता है। जिसमे आपको accounting principles और financial statements के बारे में पढ़ाया जाता है।

आइये जानते है! accounting principles और financial statements से क्या ज्ञान प्राप्ति होती है?

a) Accounting Principles –

Accounting Principles में आपको finance को business में कैसे manage करना है। आप अपने business में finance को कैसे लगाए की business में finance हर जगह पर सही से ठीक मात्रा में बट जाए। और जहाँ-जहाँ भी finance को लगाना है उन सभी जगहों पर finance divide हो जाए। ना की एक जगहे बहुत ज्यादा मात्रा में finance लगा गया और दूसरी जगहे के लिये कम मात्रा में ही finance बचा। इससे सभी जगह पर अगर सही मात्रा में अगर finance नहीं distribute हुआ। तो आपको साल के अंत में profit भी नहीं मिल पायेगा।

इसलिए finance का सही से distribution करने के लिए Accounting, Financial Principles of Management, Financial Business Planning का ज्ञान होना बहुत जरूरी होता है। जिसकी वजह से किसी भी business के start-up से लेकर business के continue चलने तक के समय में यह ज्ञान और जानकारी होना बहुत जरूरी होता है। ताकि आसानी से आप पता लगा सकते है। की किसी भी business में कितनी लागत लगी है और उससे साल के अंत में कितना लाभ होना चाहिए।

b) Financial Statements –

Financial Statements को Accounting भी कहा जाता है। क्योकि Accounts का मतलब ही financial statements maintain करना होता है। यानि accounting वही है! जिसमे financially हो रहे किसी भी लेन-देन का statement record कि गया हो। जिसको record करने का professional तरीका होता है। इसी professional तरीके को accounting बोला जाता है। जिस method को BBA के Financial Accounting विषय में पढ़ाया और practically सिखाया जाता है। जिसका प्रयोग करके आप business के सभी financial लेन-देन को सही और professional method का प्रयोग करके record कर सकते है। जिसके मदद से आपके लिए यह समझना आसान होता है की आपने हर साल business में कितना लेन-देन किया है। और उससे आपको हर साल के अंत में कितना लाभ हुआ है।

Financial Statements किसी भी business के profit-loss को समझने। की business किस स्थिति में है यह दिखाने और बताने में सक्षम होते है। इसीलिए BBA में Financial Accounting विषय का होना किसी भी business की financial conditions को समझना है।

BBA Marketing Strategy
BBA Marketing Strategy

3) Marketing Management

किसी भी छोटे से बड़े business को करने के लिए business की marketing करना बहुत जरूरी होता है। क्योकि business की marketing करने से ही business के बारे में जनता को पता चलता है। की market में यह business है। जो की अपनी business category के अनुसार जनता की माँग को पूरा करने में सक्षम है। जिसके बाद जनता उस business की category के अनुसार आकर अपनी सभी जरूरतों को पूरा करती है। और जनता business के product या service का इस्तेमाल करने के बाद business की सुविधाओं से संतुस्ट और खुश होकर business की regular customer बन जाती है।

इसीलिए किसी भी business को करने के लिए business की marketing करना बहुत जरूरी होता है। जिसे करने से पहले business की category के अनुसार marketing strategy लागू करनी होती है। जिसके माध्यम से आप digital market में अच्छी पकड़ बनाकर अपने business को बढ़ा और अच्छे पैसे कमा सकते है।

Marketing को कैसे management करना है? इन सभी तथ्यों को देखना बहुत जरूरी होता है। जिससे marketing सही दिशा और तरीके से हो पाती है। यह ज्ञान देने के लिए ही BBA में Marketing Management विषय को पढ़ाया और सिखाया जाता है। ताकि business की category के अनुसार ही marketing को manage करा जा सके।

यह जानने के लिए आपको इस article को और विस्तार से पढ़ना होगा। जिसके बाद आपको पूरी तरीके से समझ आ जायेगा की BBA के Marketing Management में कौन-से तथ्य लिए जाते है? जिसको पढ़कर और ज्ञान प्राप्त करके आप किसी भी business की category के अनुसार उसकी marketing management और strategy को समझने में सक्षम और expert हो जाते है।

BBA के Marketing Management विषय में Marketing Strategies, Consumer Behavior और Market Research इन सभी aspects पर focus किया जाता है। अब इन सभी factors को क्यों लिया जाता है? यह आपको इस नीचे दिए गए article को पढ़कर मालूम होगा।

a) Marketing Strategies –

हर अलग-अलग business की अपनी business category के अनुसार अलग-अलग marketing strategy भी होती है। कौन-से business में कौन-सी category use होगी? यह जानना बहुत जरूरी होता है। क्योकि आप अलग-अलग business category में एक ही marketing strategy का इस्तेमाल नहीं कर सकते है।

हर अलग business की अपनी अलग-अलग marketing strategy होती है। जिसमे आपको business के product या service के अनुसार यह समझना होता है-

  • की इस particular business की target audience कौन-सी है?
  • जिसमे अंदर कुछ aspects देखे जाते है। जैसे की –

Target Audience का age criteria, location, taste और style of target audience, requirement और demand time, quality और quantity of requirement आदि।

इन सभी factors को देखना अनिवार्य होता है। इन सभी aspects को समझने के बाद ही पता चलता है कि कौन-सी marketing strategy को लेने से सही तरीके से business की marketing को manage किया जा सकता है।

b) Consumer Behavior –

Target consumer के behavior के अनुसार ही अपने product या service को बनाना और यहाँ तक की अपने business की marketing को भी उसी अनुसार करना होता है। जिसमे consumer का behavior जैसे की – consumer के taste, style, quality, quantity, season of demand time, style of packaging, consumer location और online या offline requirement इन सभी factors जिनको consumer behavior कहा जाता है। इन सभी को समझने और कौन-सी business category में कौन-सा consumer behavior लगेगा। यह ज्ञान आपको BBA के Marketing Management विषय में पढ़ाया और सिखाया जाता है।

c) Market Research –

कौन-सी business category के अंदर market में कौन-सा consumer आता है। यह Market Research में सिखाया जाता है। जिसमे –

  • Consumer का क्या behavior और requirement है? Business की product या service के लिये। यह समझना ज़रूरी होता है।
  • एक business category के कितने प्रतियोगी market में है?
  • और ऐसी कौन-सी speciality है? जो अभी market में उस category के business में consumer को प्राप्त नहीं हो रही है।
  • जिसमे consumer के behavior से लेकर consumer की पसंद, ना-पसंद, consumer की क्या है?इन सभी requirements को पूरा करके एक नये business या फिर पुराने business को एक अच्छी पहचान और नाम market में मिल सकता है। ऐसी special और technical market research को समझने के लिये BBA के Marketing Management विषय को पढ़ाया जाता है। और market research का संपूर्ण ज्ञान दिया जाता है। जिससे आप किसी भी business में business की category के अनुसार सही market research करके marketing management करने में पूरी तरह से निपुण और सक्षम बन सके।

4) Human Resource Management

Human Resource Management में organizational behavior, recruitment, training और employee relations इन सभी topics पर पढ़ाया और ज्ञान दिया जाता है। यानि की human resource management में किसी भी मध्य या बड़े business के अंदर होने वाली सभी जरूरतमंद प्रक्रियाओं के बारे में पढ़ाया जाता है। जिसमे मध्य या बड़े business organization के अंदर staff या employees को कैसे behavior करना है समझाया जाता है। इस भूमिका को सही तरीके से निभाने पर HR पद पर अच्छी salary प्राप्त कर सकते है।

मध्य या बड़े business organization की category के अनुसार सभी को कौन-से rules और regulations को fallow करना जरूरी है यह सिखाया जाता है। जोकि किसी भी business organization को manage करने वाले एक Human Resource person को पूरी जिम्मेदारी से करना होता है। Human Resource को short में HR कहते है। जो विषय BBA कोर्स में शामिल होता है। जिसमे organization की category के अनुसार ही HR को काम करना होता है।

जैसे की –

  • Recruitment process करना।
  • Interview में कितने round लेना जरूरी है? और क्या प्रश्न interviewer से पूछने है?
  • Recruitment के समय किस person को कौन-सी profile या position के लिए recruit करना है?
  • Recruitment के बाद training देनी है या नहीं देनी है? और अगर training देनी है। तो कौन-सी training दी जाना जरूरी है?
  • Recruitment के समय किस employee को कितना वेतन देना है?
  • नये employees को business organization के कौन-से rules और regulations को fallow करने है? यह उनके offer letter में प्रस्तुत करना।
  • Organization की सभी requirements को पूरा और manage करना। जैसे की –
  • Organization और staff का सम्बन्ध बनाये रखना।
  • Organization में सभी necessary materials उपलब्ध रखना।
  • Organization में समय-समय पर maintenance से सम्बंधित मांग को पूरा करना।
  • Visitors से interaction करना।
  • Staff को समय पर उनसे सम्बंधित material प्रदान करना। जैसे – Salary, Technical material और सभी comfort सुविधाएँ आदि देना।
  • Organizational Party organize करना।
  • Organization के अतिथियों का स्वागत करना।
  • अतिथियों के स्वागत की व्यवस्था करना।
  • Organization में positive environment बनाए रखना।
  • नये employee को सभी से introduce करवाना।

यह सभी जिम्मेदारियों को सही से समझने और पूरा करने के लिए BBA में Human Resource Management विषय को पढ़ाया जाता है। ताकि आपको पूरा ज्ञान हो पाए की कौन-कौन जिम्मेदारियाँ और कैसे HR person को निभानी होती है।

ताकी कभी भी BBA करके जब कोई HR profile पर job करे तब उसको अपनी पूरी जिम्मेदारियाँ मालूम हो। जिससे की business organization के अंदर हो रही सभी चिजो के बारे में HR person अवगत रहे और सब कुछ अच्छे से organization में manage करने में सक्षम हो।

5) Business Ethics

इसके नाम से ही ज्ञात हो रहा है की business ethics किसे कहते है। BBA के इस विषय में business में कौन-सी ethical decision-making होनी चाहिए और कौन-सी corporate social responsibilities पर ध्यान देना जरूरी होता है? यह BBA कोर्स में पढ़ाया जाता है। जिसको पढ़ाने और ज्ञान देने का तात्पर्य यह है! की किसी भी business category को करते समय कौन-सी ethics को अपने business category में रखना है।

ताकि आप अपने business को करते समय सही और गलत कदम को ध्यान में रखकर अपने कार्य को करे।  जिससे की market में आप जो भी product या service को प्रबन्धित कर रहे है। उससे किसी भी living being को नुकसान न हो। इसको और विस्तार से समझने के लिए आपको नीचे 👇 दिए गए pointers को विस्तार में पढ़ना होगा जिससे की आप समझ पाएंगे की business ethics में कौन-कौन से aspects आते है।

a) Fundamental Principles of Morality –

इसमें business के moral principle को पढ़ाया जाता है। की किसी भी business को करने के लिए business category के अनुसार business के moral principles का पालन करना जरूरी है। जिससे की business owner उस business moral principles के अंतरगत अपने business के product या service की सभी stages को लागू रखे और उन्ही business morals का पालन करके जनता को अपने सुरक्षित product या service प्रदान करे।

ताकी business owner के product या service processing stage से लेकर supply और जनता का उनके product या service का इस्तेमाल करने के समय तक किसी को भी उससे दुष्प्रभाव ना हो। इसीलिए business करते समय business owner को अपने business के moral principle को follow करना अनिवार्य होता है। तभी वो अपने business को बढ़ा और उससे अच्छा पैसा कमा सकते है।

b) Social Responsibility –

जब आप किसी भी business को करने का विचार करते है। तब समाज में उस business से सम्बंधित और जुड़ी हर धारणा विचारों को ध्यान में रखना पड़ता है। की market में आपके business के product या service के प्रति जनता के क्या विचार और धारणा है।

यही सब aspects social responsibility के अंतरगत आते है। जिनको साथ लेकर ही आप अपने business को सही तरीके से market में खड़ा कर सकने में सक्षम होते है। और अपने business से सम्बंधित social responsibilities को पूरा करके बाजार में अपने product या service को आसानी से बेच सकते है।

अब जान लेते है की social responsibilities के अंतरगत क्या आता है?

  •  Business Ethical Practices – आपके business की ethical value practices कैसी है। जैसे की – corporate governance, रोजगार भर्ती, product या service को बेचने की तकनीक।
    • आपके business के stakeholder के साथ आपका सम्बंध कैसा है।
    • आपके business की accounting प्रक्रिया कैसी है।
    • Product उत्पादन कैसा है।
    • Corporate की जिम्मेदारी में आपका business किस स्थान पर अपनी भूमिका निभाता है आदि।
  • Fair Employment Conditions – आप अपने business में अपने employees को सही सुविधा और बेतन पर रखे। जिससे की आपके business से दूसरों को भी रोजगार और कमाने का मौका मिले।
  • Environmental Sustainability – पर्यावरण की स्थिति के अनुसार आप अपने product या service को processing stage पर बना रहे है या नहीं। क्योकि आप हर तरीके के पर्यावरण बदलाव में एक तरीके की product या service को बनाने की processing stage को नहीं निभा सकते है।
  • Contributing Positively to the Community – आप अपने business से social community या corporate community में किस तरह अच्छा योगदान दे रहे है। जिससे आप अपने business की मदद से social या corporate community में सुधार करने में भागीदार बन रहे है।
  • Embracing Diversity – आपके business के product या service बाजार में समय-समय पर जनता की नयी-नयी जरूरतों को तुरंत अपनाना और पूरा करने में आपके business का सक्षम होना। यह अगर आप अपना पाते है तो आपका business बाजार में अच्छी उन्नति पर पहुँचता है और आप ज्यादा से ज्यादा जनता की मैग को सही समय पर पूरा करने में सक्षम होते है।
  • Promoting Transparency –  यदि आप जनता के दिमागी भावना को तुरंत भापने या analyse करने में सक्षम है जो market में जल्द ही भविष्य में आपके business के product या service को लेकर मांग प्रचलन में होने वाली है। तो आप अगर अपने product या service को जल्द ही जनता की भविष्य में आने वाली मांग के अनुसार ढाल पाएंगे और market में जनता की भविष्य की मांग को पूरा करने में सक्षम हो पाएंगे।
  • Ensuring Fair Business Practices – आपका अपने business को करते समय यह बोध होना जरूरी है की आप जो भी product या service जनता के बना रहे है वह सामाजिक रूप से अच्छा और स्वस्थ हो। यह सभी aspects जहा समझाते है की आप अपने business के profit generation के अलावा आप जनता को अपने product या service के द्वारा एक अच्छा और स्वस्थ भविष्य दे रहे है। जनता के स्वस्थ और विकास में आप अपने business के द्वारा देश को बढ़ाने में भागीदार बने है और भविष्य में भी बने रहेंगे। यही सभी aspects को लेकर आप अपने business के द्वारा social responsibilities को पूरा करने में सक्षम होते है।

c) Sustainability and Transparency –

Sustainability का अर्थ है की आपके business में कितनी स्थिरता है की कितने भी उतार चढ़ाव market में आये पर फिर भी आपका business और product या service market के उस उतार चढ़ाव को पार करके स्थिर बना रहे।

यानि आपको अपने business को अपने product या service को इस तरह से प्रयोजित और तैयार करना होगा की आपका business और product या service किसी भी मुश्किलों का सामना करने के एलि हर समय सक्षम हो। यह transparency को समझना और भाप पाने का ज्ञान और कौशलता के लिए आपको BBA में Business Ethics विषय के बारे में पढ़ाया जाता है।

d) Employee Ethics –

इसमें आप अपने कर्मचारियों को सिखाते और बताते है की उनको आपके business का भागीदार बनकर समाज के प्रति अपनी कौन सी जिम्मेदारियों को निभाना जरूरी है और कैसे ग्राहको के प्रति मददगर, सरल और अच्छा व्यवहार रखना है। जिससे की आपके business के कर्मचारी आपकी business ethics को पूरी तरीके से निभाने और पालन करने में आपके भागीदारी हो। तभी आप एक सही व्यापार करने में सक्षम हो सकते है।

e) Clean Trade –

इसमें आप अपने business का सही तरीके से आन-प्रदान करे यह सिखाया और ज्ञान दिया जाता है। जिससे की आप अपने business को सरकार के संविधान के अंतर्गत में करे। इससे आपका business market में सुरक्षित रहता है और आपको कभी भी अवैध बाधाओं का सामना नहीं करना पड़ता है। यहाँ पर clean trade से तात्पर्य यह है की आप अपना business करते समय अच्छा और सही माल अपने product या service को बनाने के लिए इस्तेमाल करे। Market में जब भी आपके product या service से जुड़ी मांग बढ़े तब आप अपने product या service को छुपाकर उससे काला धन कमाने की कोशिश ना करें।

ये केवल कुछ aspects हैं। जो की आपको BBA के Business Ethics विषय में पढ़ाये जाते है। ऐसे ही और भी कई aspects हैं। जो आपको Business Ethics विषय में पढ़ाये और समझाए जाते है।

BBA Enterprenure
BBA Enterprenure

6) Entrepreneurship

Entrepreneurship का मतलब होता है जब आप किसी भी नये business को खोलने का विचार करते है। और उसके साथ-साथ business को खोलने के लिये कौन-कौन से aspects जरूरी है। इस पर focus करते है। यही entrepreneurship कहलाता है।

जिसमे आपको कुछ जरूरी aspects को लेना होता है जैसे की – business idea generation, business planning, financing, marketing, and overall business strategy आदि को cover करना होता है।

यानि की नये business को शुरू करने के लिए business के सभी तथ्यों को सही से analyse करना और समझना एक entrepreneur के लिए बहुत जरूरी होता है। इन सभी तथ्यों को analyse करने और समझने के बाद ही आप business को सही दिशा और लाभ प्रदान कर पायेगे। जिसके बाद आप एक अच्छे entrepreneur कहलायेगे। जिसमे आप अपनी entrepreneurship की भूमिका को सही तरीके से निभाने और पूरा करने में सक्षम होंगे। जो BBA करके समय आप अपने career की अच्छी growth कर सकते है। और हर महीने high earning करने में सक्षम होगे।

BBA पूरा करने के बाद आप अपने career के लिये विभिन्न रास्ते खोल सकते हैं। 

जिसमें से किसी भी career path को चुनकर, आप हर महीने high money earning कर सकते हैं। यह कौन-सी career profile opportunities है! यह नीचे दिये गये article में विस्तार से बताया गया है।

1) Marketing Manager –

BBA करने के बाद आपके लिये marketing manager की job profile या position का जरिया खुल जाता है। जिसमे आपको business की marketing strategies का development और implementation करके देखना और समझना होता है। और जिस भी business में आप marketing manager की job या अपना खुद का business कर रहे है वहा उसको लागू करना होता है।

क्योकि किसी भी business को चलाने के लिये business की marketing strategy का होना बहुत जरूरी होता है। इसलिए BBA degree program करने के बाद market में आप सही मायनों में एक professional marketing manager की position को निभाने के लिये सक्षम कहलाते है। BBA की degree होने की वजहे से आपकी value market में बढ़ती है। और आपको market में job करने और money earning के chances ज्यादा बढ़ते है।

2) Financial Analyst –

Financial Analyst की position को बहुत ही high profile की भूमिका माना जाता है। क्योकि इसमें financial analyst business के financial data को analyze करके business में finance से सम्बंधित होने वाले investment पर guide करता है और यह बताता है। की कौन-सी जगह पर invest करना है और कौन-सी जगहे पर invest नहीं करना है।

इसी वजह से बड़े businesses के finance को handle करने के लिए और business financial investment से जुड़े सभी decisions लेने के लिये बड़े businesses में financial analyst की position वाले person को रखना जाता है। ताकी financial analyst अच्छे और सही तरीके से business में होने वाले सभी विभागों के financial investment को देख और संभल सके। और business में कहा पर invest करने से profit होगा यह बता सके ताकि business में हो रहे सभी खर्चे सही दिशा में हो जिससे business को भविष्य में फायदा ही फायदा हो।

इसलिए BBA degree program करने के बाद financial analyst की भूमिका को निभाकर आप high income earn करने में सक्षम होते है। और क्योकि financial analyst की भूमिका एक high profession भूमिका में आती है। इसलिए financial analyst बनने के लिये आपको BBA के professional degree program की जरूरत होते है।

3) Human Resources Manager –

HR Manager की भूमिका को सही से समझने और उसमे professional होने के लिये BBA degree program को किया जाता है। जिसके द्वारा आप मध्य और बड़े business organization में HR Manager की भूमिका को निभाकर एक उच्च भूमिका पर काम कर सकते है और fix high monthly earning कर सकते है। HR Manager की भूमिका में जितना-जितना आपका experience बढ़ता है उतनी ही आपकी salary भी high होती जाती है। तो आप BBA degree program को करके HR Manager की उच्च भूमिका  को निभा सकते है और high earning भी कर सकते है। इस position में आपको business organization के अंदर सभी employees से अच्छी respect भी मिलती है।

4) Management Consultant –

Management Consultant किसी भी business owner को उनके business को उन्हें कैसे manage करना चाहिए इसपर consultation देते है जिसे business advisory भी कहते है। और इसीलिए management consultant की position को business advisor की position भी कहा जाता है।

यह business management consultation देने में आप तभी सक्षम होते है। जब आपके पास BBA degree program हो क्योकि BBA में आपको business से जुड़े हर पहलू के बारे में पढ़ाया, सिखाया, समझाया और ज्ञान दिया जाता है। जिसको पाकर और management consultant position की भूमिका को निभाकर आप easily high earning करने में सक्षम होते है।

जो आपको सायद सुनने में और कामियाबी पाने में कठिन लग रहा होगा। लेकिन अगर आपने इसमे सफलता पा ली तो आपका career और life दोनों ही successful है। जिसमे आपकी income earning की limit नहीं होगी। यानि की आप इस profession में सफल होने पर अच्छा name और fame कमा सकते है।

5) Sales Manager –

BBA degree program करने के बाद आपके लिये sales manager की profile भी open हो जाती है। क्योकि आपको BBA करते समय business को करने के हर पहलू पढ़ाए और सिखाये जाते है। जिसके द्वारा आपको यह भी skill दी जाती है की आपको किसी भी business में customers को कैसे deal करना है।

जिसमे आपको high sales करके salary के साथ-साथ incentive कमाने का भी मौका मिलता है। जिसमे आपको monthly salary के अलावा incentive से ज्यादा percentage of income earn करने का मौका मिलता है। जिसमे आप successfully sales करके sales profile में अपना career बना और भविष्य में sales manager बनकर अपने career को बढ़ा सकते है।

6) Entrepreneur –

BBA degree program करने के बाद आप अपने ज्ञान और सूझ-बूझ से अपना खुद का business खोल सकते है। जिस भी business category का सम्पूर्ण ज्ञान आपको है। उस business के सभी aspects को अपने BBA कोर्स में मिले ज्ञान और सूझ-बूझ से समझकर अपने business को आप सफलतापूर्वक चला सकते है। और आसानी से अपनी BBA कोर्स की कौशलता से अपने business को successful बनाकर high money earning कर सकते है।

7) Supply Chain Manager –

Supply Chain Manager का role उन businesses में होता है। जहाँ पर product से सम्बंधित production किया जाता है। ऐसे businesses में production के लिये material के आने और जाने का लेखा-जोखा रखने, देखने और manage करने की जिम्मेदारी एक supply chain manager को दी जाती है।

जिसकी जिम्मेदरियों को निभाने के लिये BBA degree program वाले व्यक्ति को भी ऐसी high profile और high income पर काम करने का मौका मध्य से लेकर बड़ी production industries में मिलता है। इस profile पर काम करने वाले व्यक्ति की monthly salary earning भी high होती है। और जिस भी production industry में व्यक्ति इस position पर काम कर रहा होता है। उसकी profile को industry के अंदर और market में high value मिलती है। जिसकी वजह से market में उसकी career opportunities भी बढ़ जाती है।

8) Financial Planner –

आपने ऊपर के article में financial planner की महत्वता के बारे में पढ़ा था। जिसमे आपको ज्ञात हुआ था की किसी भी business को करने के लिये business की financial planning करना सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है। जिसमें financial planning की मदद से आप अपने business में होने वाले financial खर्चो को कैसे distribute करे सही तरीके से करने पर ही business में हर महीने या हर साल के अन्त में business को net profit earning दिला सकते है।

इसमें career develop करने के लिये आपको BBA degree program करने की जरूरत होती है। जिसके बाद financial planner बनने के रास्ते आपके लिये खुल जाते है और financial planning के विभाग में experience लेकर आप भविष्य में एक successful financial planner बन सकते है। Financial Planner बनकर आप अपने लिये high career opportunity का रास्ता खोल सकते है। और अपने लिये high income earning करने का जरिया बना सकते है।

9) Operations Manager –

BBA degree program करने के बाद आपके लिये operations manager की position पर professional तरीके से काम करने का रास्ता खुल जाता है। जिसमे आपको दिन-प्रतिदिन business के अंदर होने वाले सभी कार्यों पर निगरानी रखनी होती है। जिससे की business में दिन-प्रतिदिन होने वाली work efficiency को आप सुनिश्चित कर पाए की business के अंदर सभी विभागों में सही समय पर सब काम किये जा रहे है या नहीं। Operations Manager की position की जरूरत सभी business organization में होती है।

इसलिए business organization में सभी विभागों के काम करने की गति को देखना और maintain रखने की जिम्मेदारी operations manager को दी जाती है। अब क्योकि operations manager को business organization के अंदर के सभी विभागों को manage करना होता है। इसलिए operations manager की position को organization में बड़े इस्तर पर माना जाता है। जैसे-जैसे आप operations manager की profile में अनुभवी होते जाते है। वैसे-वैसे ही आपको अपने career और income में growth मिलती जाती है।

10) Business Analyst –

Business Analyst की profile एक तरीके से कह सकते है। की यह business consultant की भूमिका को निभाती है। जो BBA में आपको पढ़ाया और सिखाया जाता है। इस profile को अगर आप अपनी career opportunity बनाते है। तो आपको BBA करते समय ध्यान से हर business category के aspect को समझना होगा। जिससे BBA करने के बाद आप business analyst की भूमिका को सही तरीकों से निभाने में सक्षम हो।

उसके बाद आप professional experience लेकर अपने आपको well qualified और highly skilled business analyst बना सकते है। जिसमें सफलता पाने के बाद आपकी earning income की कोई limit नहीं होगी। क्योकि आज के समय में बड़े से बड़े business owners अपने business को सही दिशा में grow करने और high-profit earn करने के लिये experienced business analyst की सलहा लेते है। ताकि उनकी मदद से वह अपने business के past data को analyse करवा के business analyst से अपने business improvement के insights ले सके।

Conclusion तो आपने इस article से समझा की BBA के degree program को करने के बाद आप अपने career की बहुत-सी opportunities को खोल सकते है। जिससे आप अपनी career growth के साथ-साथ good income earning कर सकते है। और एक सफल जीवन यापन कर सकते है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Seraphinite AcceleratorOptimized by Seraphinite Accelerator
Turns on site high speed to be attractive for people and search engines.